in ,

12 वर्षीय लड़की के संग शादी कर भागना चाहता था बुड्डा, ये थी वजह

Loading...

मुरैना: भारत में काफी समय पहले एक बाल विवाह की प्रथा चलती थी जिसमें छोटी सी उम्र में लड़की की शादी कर दी जाती थी। लेकिन समय बदला और लोगों की काफी समय से चली आ रही प्रथा पर सरकार ने रोक लगा दी। आपको बता दें कि भारत सरकार ने नाबालिक लड़कियों की शादी करने पर बैन लग दिया है। अगर कोई नागरिक ऐसा करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई का प्रवधान लिखा हुआ है। बाल विवाह कराने पर रोक लगाने के बाद भी भारत में ऐसे कई लोग है जो इस प्रथा को किसी ना किसी प्रकार से जारी रखना चाहते है और वे इस प्रथा को जारी रखते है। बाल विवाह का ऐसा ही मामल सामने आया है जिसमें एक 12 साल की लड़की का विवाह एक 51 साल के अधेड़ उम्र के आदमी के साथ कराई जा रही थी।


आपको बता दें कि ये मामला मध्य प्रदेश के मुरैना जिले का है। जहां जागीर पंचायत के शादीशुदा सरपंच जगन्नाथ मावई एक 12 साल की बच्ची के साथ शादी कर रहा था। आपको बता दें कि गांव के सरपंच जगन्नाथ मावी 11 दिसंबर को 12 साल की नाबालिक बच्ची के साथ शादी करने का फैसला किया था। लेकिन सरपंच जगन्नाथ मावी को जरा भी इस बात का अफसोस नहीं था कि वे एक अपनी बेटी समान बच्ची से शादी करने वाला है।

दुल्हन को लाना चाहता था हेलिकॉप्टर से

Loading...

वहीं सरपंच अपनी शादी के लिए इतना खुशा था कि उसने अपनी दुल्हन को लाने के लिए हेलीकॉप्टर सोच के रखा था कि वे अपनी दुल्हन को हेलीकॉप्टर में लेकर आएगा। इसके लिए सरपंच ने जिले के कलेक्टर से भी हेलीकॉप्टर में दुल्हन लाने की अनुमति भी ले ली थी। इसके लिए सरपंच ने हेलीपैड भी बनवा लिया था। इसी बीच सरपंच के अरमानों पर पानी फिर गया। सरपंच की शिकायत किसी ने जिले के कलेक्टर से कर दी कि सरपंच नाबालिग लड़की से शादी कर रहा है। इसके बाद कलेक्टर ने तुरंत करर्वाई की। वहीं जांच के दौरान पता चला कि लड़की 12 साल की लड़की से उसकी शादी रुकवा दी। गौर करने वाली बात ये है कि जिस नाबालिक लड़की के साथ शादी करने वाला था उस 12 साल की बच्ची ने साल 2010 में पहली कक्षा में दाखिला लिया था। इसी कारण उस 12 साल की बच्ची का जन्म स्कूल के रजिस्टर में 2005 में दर्ज हुआ था।

इस मामले पर जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन सोनिया मीणा ने बताते हुए कहा कि आरोपी जगन्नाथ मावई के खिलाफ हिंदू विवाह और बाल विवाह के केस के तहत कार्रवाई शुरू कर दी है। इसके साथ ही सरपंच को उसके पद से इस हरकत के कारण हटा भी दिया गया है। इसके साथ ही जगन्नाथ आने वाले 6 सालों तक सरपंच का चुनाव के लिए नहीं खड़ा हो सकता है क्योंकि क्योंकि उसने समाज के खिलाफ जाकर जिसकी इजाजत सरकार नहीं देती उसने नाबालिग से शादी करना का फैसला किया। वहीं इस घिनौने अपराध के कारण जगन्नाथ को उसके सरपंच के पद से बर्खास्त कर दिया गया है। इसके साथ ही पंचायती राज अधिनियम 1993 की धारा 40 उस पर लगा दी गई है।

Loading...

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

Total votes: 0

Upvotes: 0

Upvotes percentage: 0.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विराट कोहली से पहले इन बॉलीवुड स्टार्स के साथ चर्चा में रहा अनुष्का शर्मा का नाम

नहीं हो पाएगा अब चोरी का मोबाइल ट्रेस, ये सॉफ्टवेर बदल देता पूरा सिस्टम