एक बाप ने अपने बच्चो की पढ़ाई के लिए पहाड़ काटकर बना डाली सड़क।

0
25
Loading...
जी हां आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे व्यक्ति के बारे में जो कि एक बहुत ही मेहनती इंसान हैं। आप लोगों ने बिहार के माउंटेन मैन दशरथ मांझी का नाम तो सुना ही होगा, दशरथ मांझी बहुत ही हिम्मती व्यक्ति थे। जिन्होंने एक बार ठान ली थी,तो उसे पूरा करके ही दम लिया था। उन्हीं के नाम पर एक फिल्म भी आई थी,मांझी ।

दशरथ मांझी वही व्यक्ति थे जिन्होंने केवल हथोड़ा और छीनी लेकर अकेले ही एक बहुत बड़ा पहाड़ को काट कर वहां से बीच में एक 30 फुट चौड़ी सड़क बनाने के लिए 25 फुट बड़ा पहाड़ काट डाला था। जिस तरह दशरथ राम मांझी ने अपनी पत्नी के प्यार में एक पूरा पहाड़ को काटकर एक सड़क में तब्दील कर दिया था,उसी प्रकार उड़ीसा के रहनेवाले कंधमाल गांव के जालंधर नायक एक व्यक्ति ने भी एक कमाल कर दिखाया है।

Source

उन्होंने भी एक पहाड़ को काटकर 8 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण किया है, जालंधर के तीन बच्चे हैं तीनों बच्चे स्कूल पढ़ने जाते हैं, लेकिन रास्ते में टूटी फूटी सड़क और जंगल होने के कारण वह लोग अपने स्कूल कभी-कभार ही जा पाते हैं।जालंधर नायक वैसे तो पढ़े लिखे नहीं हैं वह अपना परिवार का निर्वाह वहां पर सब्जी बेचकर करते थे,जब उनके बच्चों को पढ़ाई करने में कठिनाई होने लगी।

Loading...
Source

स्कूल जाने वाले रास्ते में पहाड़ के कारण उनके बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे थे तो उन्हें इस बात का बड़ा दुख हुआ और वह सोचने लगे कि अगर मेरे बच्चे नहीं पढ़ेंगे तो यह आगे कैसे बढ़ेंगे।इसीलिए उन्होंने उस दिन से यह बात अपने मन में ठान ली और उन्होंने अकेले ही 2 साल में रोजाना 8 घंटे लगातार मेहनत करके, बिना किसी प्रशासनिक मदद के 8 किलोमीटर लंबी एक सड़क तैयार कर दी। जिसका किसी को भी अंदाजा नहीं था और उन्होंने यह भी कहा है कि अब आने वाले 3 सालों में वह 7 किलोमीटर सड़क और बनाएंगे जो कि उनके गांव गुमसही को मुख्य मार्ग से जोड़ेगी।

जिससे कि उनके बच्चों को स्कूल से आने जाने में कोई भी दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा,जहां पर जालंधर नायक रहते हैं उस गांव में सभी लोग वहां से वह गांव छोड़कर वहां से पलायान कर चुके हैं। उस गांव में केवल जालंधर नायक का परिवार रहता है।वहां पर संसाधनों की कमी होने के कारण उस गांव को सभी लोगों ने छोड़ दिया था, तब नायक ने ये  फैसला लिया था, जिस तंगी से वह गुजरे हैं वह अपने बच्चों को ऐसी तंगी से नहीं जूझने देंगे।

उनको पढ़ा लिखा कर उनका उज्जवल भविष्य बनाने में सहायता करेंगे,इसी बीच खबर वहां के ब्लॉक अधिकारी को पता लगी तो उन्होंने नायक को यह भरोसा दिलाया कि आगे की सड़क बनाने के लिए सरकार आपके साथ रहेगी और यह जितनी भी सड़क है यह पूरी पक्की बनाई जाएगी।जब यह खबर वहां के जिलाधिकारी को भी पता लगी तो उन्होंने नायक को सम्मानित करने का निर्णय लिया, अब वे इस बात से खुश हैं कि आगे की सड़क बनाने के लिए सरकार उनकी मदद करेगी और वह सड़क पक्की बनाएगी।तब नायक ने एक बात कही कि कोई भी कार्य मुश्किल नहीं होता या असंभव नहीं होता है अगर हम लोग उसको करना चाहे तो कर के दिखा सकते है।

Leave your vote

0 points
Upvote Downvote

Total votes: 0

Upvotes: 0

Upvotes percentage: 0.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here