in

पति ने छोड़ा तो शुरू किया फ़ूड ट्रक,महिंद्रा के मालिक कर चुके है ट्वीट।

Loading...

ज़िन्दगी में परेशानी आना एक आम बात है कुछ लोग इन परेशानी या मुसीबतो में बिखर जाते है तो वही कुछ लोग इन मुसीबतो से उभर कर निखर जाते है फिर चाहे मुसिबत कितनी भी बड़ी हो। आज हम आपको एक ऐसी ही महिला की कहानी बताने जा रहे है जिनका नाम शिल्पा है,इनके जीवन मे इतने दुख आये फिर भी इन्होंने हार न मानते हुए सकारात्मक सोच के साथ अपने बल पर कारोबार खड़ा कर मिसाल पेश की।

Source

बचपन से है खाना बनाने का शौक :-

एक वेबसाइट को शिल्पा बताती है कि उन्हें खाना बनाने का शौक तो बचपन से था मगर उन्होंने कभी इस शौक को व्यापार के रूप में नही देखा,लेकिन उन्हें क्या पता था कि किसी दिन उन्हें यह शौक और हुनर बड़ा काम आएगा।

झूठ बोलकर पति ने छोड़ा:-

शिल्पा अपनी दुख भरी कहानी बताते हुए कहती है कि उनके पति बोलकर गए की वे अपने व्यापार के लिए लोन लेने के सिलसिले में बैंगलोर जा रहे हैं लेकिन वो कभी नहीं लौटे। यह बात सन 2008 की है , जब वक़्त शिल्पा के हाथ में 3 साल का बच्चा था और समाज में उसको एक पहचान दिलाने के लिए संघर्ष करने के लिए वे अकेली थी।

शुरू किया फ़ूड ट्रक पर खाना बनाना :-

Loading...

शिल्पा ने खुद से कुछ पैसे इकट्ठा किये थे,उनके पास करीब 1 लाख रुपये के अलावा और कुछ नहीं था,लेकिन उनके घर के ठीक सामने महिंद्रा का एक शोरूम था,उन्होंने अचानक से सोचा कि “क्यों न मैं एक ट्रक ले लूँ और उसे फ़ूड ट्रक में परिवर्तित करके अपना खुद का खाने का व्यापार शुरू करूं”। लेकिन उन्हें कुछ और पैसों की ज़रूरत थी तब उन्होंने महिला रोज़गार उद्योग योजना के अंतर्गत लोन लिया और अपने पास बचे हुए सोने के गहने बेच कर एक बच्चे के उज्जवल भविष्य के लिए हिम्मत न हारते हुए फ़ूड ट्रक पर खाना बनाना शुरू किया। धीरे-धीरे ही सही उनका यह छोटा सा कारोबार चलने लगा । शिल्पा बताती है की “मैं फ़ूड ट्रक के व्यापार में अपनी मर्ज़ी से नहीं बल्कि मज़बूरी में आयी“। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि “अगर मैं तब हार मान जाती तो आज मै मेरे बेटे को सुनहरा भविष्य देने का सोच नहीं पाती“।

आज कमाती है हर रोज़ ₹10000,महिंद्रा के मालिक भी मान चुके है इनका लोहा :-

जब शिल्पा का फ़ूड ट्रक नया था तब उन्हें दिन के ₹500-₹1000 ही मिलते थे लेकिन अब वे ₹10,000 के करीब कमाती है। जिसमे से ज़्यादातर हिस्सा उनके बच्चे और माँ-बाप के लिए होता है।

उनके फ़ूड ट्रक के फेमस होने की वजह उनका खाना तो है ही लेकिन जब महिंद्रा के मालिक आनंद महिंद्रा ने उनकी कहानी से प्रभावित होकर ट्वीट किया और उनकी हर संभव मदद का आश्वासन दिया। तब से उनके ग्राहकों की संख्या में काफी बढत देखने को मिली है।

शिल्पा ने यह साबित कर दिखाया कि महिलाए अकेले अपने दम पर पुरुषों से भी अच्छा कारोबार खड़ा कर सकती है। यह कहानी केन्फोलिओस से ली गई है आपको यह कहानी अगर अच्छी लगी हो तो इसे ज़रूर शेयर करे।

 

 

Loading...

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

Total votes: 0

Upvotes: 0

Upvotes percentage: 0.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

एक बाप ने अपने बच्चो की पढ़ाई के लिए पहाड़ काटकर बना डाली सड़क।

मुंबई के लोग इन्हें मानते है दूसरा सचिन,खुद सचिन भी है इनके फैन।